Label » Rahim

The last rites

“Have you ever danced with the devil, in the middle of the night…?”, Rahim asked.
Alisha did not quiet know the answer. Her hundred days away from home has taught her the virtue of silence. 138 kata lagi

Fiction

भक्ति काल: एक षड्यंत्र?

आज प्रातः ही मैंने भगवन विष्णु, आदि शेष व क्षीर सागर के विषय में लिखने का मन बनाया था पर प्रभु की कुछ और ही इच्छा थी। मुझे व्हाट्स ऍप पर
एक सन्देश प्राप्त हुआ जो की इस प्रकार है,
“जैसी परे सो सहि रहे, कहि रहीम यह देह ।
धरती ही पर परत है, सीत घाम औ मेह ।।

   रहीम कहते हैं कि जैसी इस देह पर पड़ती है – सहन करनी चाहिए, क्योंकि इस धरती पर ही सर्दी, गर्मी और वर्षा पड़ती है। अर्थात जैसे धरती शीत, धूप और वर्षा सहन करती है, उसी प्रकार शरीर को सुख-दुःख सहन करना चाहिए।”

प्रथम दृष्टि में इस दोहे में कोई बुराई नही पता चलती पर यदि आप इसे थोडा कुरेदने की कोशिश करेंगे तो आप को पता चलेगा की इस दोहे का कुप्रभाव क्या हो सकता है।
कबीर, रहीम, रवि और न जाने कितने ही दासों ने भारतवासियो को निकृष्ट व डरपोक बना दिया। रहीम का ये दोहा मनुष्य को सहने की शिक्षा देता है!
इस दोहे में सुख और दुःख की तो कहीं बात ही नही है सिर्फ इतना कहा गया है के जैसी देह पर बीते हमे सहते रहना चाहिए।
क्यों सहें भाई???
हमसे प्रभु श्री कृष्ण ने कहा है की अन्याय, अधर्म कभी सहना नहीं चाहिए, हम तो नही सहेंगे।
अब अगर इसका वो भावार्थ ही लेलें जो की लिखा हुआ है तो भी हम दुःख क्यों सहते रहें?? क्यों न हम दुःख का नाश करने के लिए पुरुषार्थ करें?
गीता में भगवन ने भी पुरुषार्थ करने के लिए कहा है!
ऐसे बहुत सारे दोहे मिल जायेंगे आपको भक्ति काल के जो किसी भी राष्ट्र की पीढ़ियों को बर्बाद करने के लिए काफी हैं।
स्वयं इस विषय में विचार कीजिये।
कबीर व रहीम जैसो के दोहों का यदि इतिहास देखा जाये तो वो भक्ति काल में मिलता है। भक्ति काल मुग़लों के समय में ही आरंभ हुआ था और कबीर का काल तो 1500 के बाद आया था इस काल तक अँगरेज़ भी भारत में आ चुके थे। हो सकता है अब मैं जो लिखू उससे आप सहमत न हो पर ये विचार योग्य बात है।
इस भक्ति काल के पीछे दो बातें हो सकती हैं। पहली ये के ये जितने भी दोहे वाले दास हैं वो इन मुग़लो या अंग्रेज़ो के एजेंट हो जिनका सिर्फ एक काम था गीता रामायण से पुरुषार्थ की शिक्षा लेने वाले हिन्दुओ को डरपोक, व निकम्मा बनाना ताकि जो कुछ उन पर बीते वो बिना विरोध के उसे सहते रहें।
पर फिर कबीर ने तो हिन्दुओ को भी गाली दी साथ साथ मुसलमान को भी गाली दी!
तो ये दास मुगलों के एजेंट नही होंगे शायद!!??
तब अँगरेज़ भी थे तो उनके पूजा के स्थल जैसे चर्च वगैरह तो होंगे ही न?
कबीर ने चर्च के विषय में तो कुछ लिखा ही नही?
शायद आज के अदर्श लिबरलों की तरह ही उन्हें चर्च “कूल” लगता होगा।
या फिर ये इन्हीं के एजेंट थे???
या फिर ये जितने भी दास हुए कभी पैदा ही नही हुए!!!??
खैर ये हो चाहे न हों, हमें एक बात सुनिश्चित कर लेनी चाहिए की हमारी आने वाली पीढियां इन दासों के दोहों से दूर रहे।

iForindian©

Society

Dilemma

Selamat malam, Semesta.

Aku terlampau bahagia atas dirimu yang begitu lincah di dalam sana.
Kau sapa aku melalui tonjolan lembut di permukaan kulit,
Membuatku menerka, apa yang hendak kau kata? 66 kata lagi

Life

Dindarlık: İçi-dışı yangın bir hal


Öyle ya, ölmeli, hapsedilmeli, darp edilmeli, nefessiz bırakılmalı, gasp edilmeli ve gene de nezaketi ve zarafeti, adaleti elden bırakmayan biz olmalıyız, yani iktidar dairesinin dışında kalanlar, muhalefetten vazgeçmeyenler. 2.588 kata lagi

Ayşe

Siswi SMP di Buleleng Bali diberi Vaksin Kanker Serviks

Reporter : Gede Nadi Jaya | Rabu, 31 Desember 2014

Merdeka.com – Kanker Serviks masih menjadi momok yang menakutkan bagi kalangan wanita, terutama ibu-ibu. Untuk mencegah dini kalangan wanita terkena kanker serviks, Pemkab Buleleng memberikan vaksin di kalangan para siswi. 202 kata lagi

Artikel

Canangkan Vaksinasi Kanker Serviks Massal Berkelanjutan

Denpasar (KLA.or.id) – Bertepatan dengan Hari Kartini dan dalam rangka meningkatkan derajat kesehatan masyarakat Kota Denpasar melalui penurunan angka dan kematian akibat kanker serviks, Pemkot Denpasar melalui Dinas Kesehatan Kota Denpasar menggelar… 421 kata lagi

Artikel

Waspada, Perempuan Berisiko Kanker Leher Rahim

TEMPO.CO, Jakarta – Semua perempuan memiliki risiko terkena kanker rahim. Namun hanya sedikit perempuan yang memahami ancaman itu bagi mereka. “Gaya hidup yang tidak sehat akan menambah risiko itu,” kata dokter spesialis kandungan dan kesehatan reproduksi, Dwi Octaviani, Sabtu, 6 September 2014. 197 kata lagi

Artikel